ग्रह-नक्षत्रों के अनुसार दिसंबर का महीना बेहद महत्वपूर्ण, दिसंबर में होगा पांच ग्रहों का गोचर

11/27/2023 10:44:25 AM

जयपुर । साल 2023 का आखिरी माह दिसंबर जल्द ही शुरु होने वाला है। ऐसे में ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, दिसंबर माह में 5 ग्रहों का राशि परिवर्तन होने जा रहा है। ग्रह-नक्षत्रों के अनुसार दिसंबर का महीना काफी महत्वपूर्ण रहने वाला साबित हो सकता है। ऐसे में हर राशि के जातकों के जीवन पर इन ग्रहों का शुभ या अशुभ असर पड़ेगा। ऐसे में पाल बालाजी ज्योतिष संस्थान जयपुर-जोधपुर के निदेशक ज्योतिषाचार्य डा. अनीष व्यास ने बताया कि दिसंबर महीने में सबसे पहले बुध ग्रह वक्री होंगे फिर इसके बाद सूर्य, मंगल, शुक्र और बुध ग्रह का राशि परिवर्तन होगा। इसके अलावा गुरु अपनी स्वराशि यानी मेष राशि में रहते हुए मार्गी होने वाले हैं। 

ग्रहों के गोचर का प्रभाव
ज्योतिषाचार्य ने बताया कि बीमारियों के इलाज में भी नए-नए आविष्कार होंगे। नई-नई दवाइयां और तकनीक विकसित होगी। सूर्य, शुक्र, मंगल और बुध के राशि परिवर्तन से व्यापार में तेजी आएगी। बीमारियों में कमी आएगी। रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। आय में इजाफा होगा। प्राकृतिक आपदा के साथ अग्नि कांड, भूकंप, गैस दुर्घटना, वायुयान दुर्घटना होने की संभावना जताई जा रही है । पूरे विश्व में राजनीतिक अस्थिरता यानि राजनीतिक माहौल उच्च होगा। राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप ज्यादा होंगे। सत्ता संगठन में बदलाव होंगे। पूरे विश्व में सीमा पर तनाव शुरू हो जाएगा। देश में आंदोलन, हिंसा, धरना प्रदर्शन हड़ताल, बैंक घोटाला, वायुयान दुर्घटना, विमान में खराबी, उपद्रव और आगजनी की स्थितियां बन सकती है।

पूजा-पाठ और दान करें 
हं हनुमते नमः, ऊॅ नमः शिवाय, हं पवननंदनाय स्वाहा का जाप करें। प्रतिदिन सुबह और शाम हनुमान जी के समक्ष सरसों के तेल का दीपक जलाएं। हनुमान चालीसा और संकट मोचन का पाठ करें। लाल मसूर की दाल शाम 7:00 बजे के बाद हनुमान मंदिर में चढ़ाएं। हनुमान जी को पान का भोग और दो बूंदी के लड्डू का भोग लगाएं। ईश्वर की आराधना संपूर्ण दोषों को नष्ट एवं दूर करती है। महामृत्युंजय मंत्र और दुर्गा सप्तशती पाठ करना चाहिए। माता दुर्गा, भगवान शिव और हनुमानजी की आराधना करनी चाहिए।

दिसंबर में होगा पांच ग्रहों का गोचर 

  • 13 दिसंबर को बुध की वक्री चाल 

दिसंबर में सबसे पहले बुद्धि और ज्ञान के देवता बुध ग्रह वक्री होंगे। बुध ग्रह धनु राशि में विराजमान होते हुए 13 दिसंबर को वक्री हो जाएंगे। बुध 28 दिसंबर तक वक्री अवस्था में रहेंगे। बुध ग्रह के वक्री होने से तुला, मकर और कुंभ इन तीन राशि के जातकों को सबसे ज्यादा फायदा मिल सकता है। 
 

  • 16 दिसंबर को सूर्य का ग्रोचर 

वैदिक ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सूर्यदेव हर एक माह में अपनी राशि बदलते हैं। ऐसे में 16 दिसंबर को सूर्य का राशि परिवर्तन होगा। सूर्य देव 16 दिसंबर को धनु राशि में आ जाएंगे जहां पर ये 15 जनवरी 2024 तक रहेंगे। 15 जनवरी के बाद मकर राशि की यात्रा में प्रवेश कर जाएंगे। सूर्य के धनु राशि में गोचर से मेष, धनु और मीन राशि के लोगों को विशेष लाभ मिल सकता है। 

  • 25 दिसंबर को शुक्र का गोचर 

25 दिसंबर 2023 को धन, सुख, वैभव और ऐशोआराम के कारक ग्रह शुक्र राशि परिवर्तन करेंगे। शुक्र ग्रह 25 दिसंबर 2023 को वृश्चिक राशि में प्रवेश कर जाएंगे। शुक्र के वृश्चिक राशि में गोचर करने से कर्क, सिंह, मकर और कुंभ राशि के लोगों को विशेष लाभ मिल सकता है। 

  • 27 दिसंबर को मंगल का गोचर 

ग्रहों के राजकुमार और सेनापति मंगल 27 दिसंबर 2023 को धनु राशि में गोचर करेंगे।  मंगल के धनु राशि में गोचर करने पर मेष, कर्क, तुला और धनु राशि के जातकों के लिए अच्छी सफलता हासिल करने के योग हैं।

 

  • 28 दिसंबर को बुध का गोचर 

बुध ग्रह 28 दिसंबर 2023 को वृश्चिक राशि में प्रवेश कर जाएंगे। फिर इसके बाद 02 जनवरी को मार्गी होंगे और 07 जनवरी को फिर से धनु राशि में प्रवेश कर जाएंगे। बुध के दिसंबर माह में वृश्चिक राशि में प्रवेश करने पर वृषभ और धनु राशि के जातकों को अच्छा लाभ मिल सकता है।

बृहस्पति का मार्गी 
साल 2023 के अंत में देवताओं के गुरु बृहस्पति अपनी स्वराशि मेष राशि में सीधी चाल से चलने लगेंगे। गुरु के मार्गी होने पर मेष, वृषभ, मिथुन और सिंह राशि के लोगों को अचानक धन लाभ और सभी तरह के भौतिक सुख-सुविधआओं की प्राप्ति होगी। 

12 राशियों पर फायदा या नुकसान

  • शुभ प्रभाव- मिथुन, वृश्चिक, मकर और मीन
  • अशुभ प्रभाव -वृष, सिंह, तुला और कुंभ
  • मिलाजुला प्रभाव- मेष कर्क, कन्या और धनु

Content Editor

Afjal Khan

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Recommended News

Related News